Patni ka vashikaran

Patni ka vashikaranAise to pati aur patni ke beech bahut hi majboot pyaar aur vishvaas ka rista hota hai. Pati aur patni sath jeene aur marne ka ek dusre ko vachan dete hai. Aur unhe poora karne ka bhi apne taraf se koshish karte hai. Lekin kayi bar aisa hota hai ki pati aur patni ke beech kisi karan ladayi jhagda ho jata hai. Ya pati aur patni ke beech koi aur vyakti aa jata hai. Jise ki unke beech dooriya badhne lagti hai. Aur patni apne pati se alag hone lagti hai. Ya patni apne pati ko pasand nhi karti aur na hi apne pati se pyaar karti hai jise ki uska pati pareshan ho jata hai. Aur vah apne Patni ka vashikaran karne ka upay sochata hai.

Patni ka vashikaran

पत्नी का वशीकरण: ऐसे तो पति और पत्नी के बीच बहुत ही मजबूत प्यार और विश्वास का रिश्ता होता है. पति और पत्नी साथ जीने और मरने का एक दूसरे को वचन देते है और उन्हें पूरा करने का भी अपने तरफ से कोशिश करते है. लेकिन कई बार ऐसा होता है कि पति और पत्नी के बीच किसी कारन लड़ाई झगड़ा हो जाता है| या पति और पत्नी के बीच कोई और व्यक्ति आ जाता है. जिसे कि उनके बीच दूरियां बढ़ने लगती है. और पत्नी अपने पति से अलग होने लगती है| या पत्नी अपने पति को पसंद नहीं करती और न ही अपने पति से प्यार करती है जिसे कि उसका पति परेशां हो जाता है और वह अपने पत्नी का वशीकरण करने का उपाय सोचता है |

पत्नी को अपने वश में करने का तरीका

Pati aur patni ko alag hone ke kayi karan ho sakte hai.kabhi auart ko apne pati ke alava kisi dusre purush se prem ho jata hai. Aur vah apne pati se alag hona chahati hai. Ya kayi baar aapasi matbhet ke karan patni apne pati se pyaar nhi karti aur na hi apne pati ka dekh bhal karti hai. Jise ki pati pareshan ho kar apne patni ko uppar Vashikaran karna chahata hai.ya kahe to Patni ka vashikaran karna chahata hai. Jise ki vah apne patni ko apne vash me kar sake aur uska shaadi tutne se bach sake. Pati apne patni ko apne vash me karne ke liye sabhi tarah ka upay karta hai. Lekin use kameyabi nhi mil pati hai. Jise ki vah kafi nirash hone lagta hai.

Patni ko vash me karne ka tarika

पति और पत्नी को अलग होने के कई कारण हो सकते है | कभी आवर्त को अपने पति के अलावा किसी दूसरे पुरुष से प्रेम हो जाता है और वह अपने पति से अलग होना चाहती है| या कई बार आपसी मतभेत के कारण पत्नी अपने पति से प्यार नही करती और न ही अपने पति का देख भाल करती है| जिसे कि पति परेशान हो कर अपने पत्नी को उप्पर वशीकरण करना चाहता है या कहे तो पत्नी का वशीकरण करना चाहता है. जिसे की वह अपने पत्नी को अपने वश में कर सके और उसका शादी टूटने से बच सके | पति अपने पत्नी को अपने वश में करने के लिए सभी तरह का उपाय करता है| लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिल पाती है | जिसे की वह काफी निराश होने लगता है|

Dost ki patni ka vashikaran

Agar aap ke ghar me  bhi koi es tarah ka samsya hai. Jise ki pati aur patni ke beech kisi baat ko lekar tanav ho gya hai. Aur patni apne pati se alag hoi rahi hai ya vah apne pati ko pasnad nhi kar rahi hai. Aur pati apne pati se alag nhi hona chahata hai. To ab aap ko nirash hone ki koi bat nhi hai. Aap hamare baba ji se sampark kar ke apne patni ko asaani se apne Patni ka vashikaran ka uapy kar ke vash me kar sakti hai. Jise ki aap ka vaivahik jeevan alag hone se bach sakta hai. Aur aap ki patni poori tarah se aap ke  vash me ho jayegi aur aap ke sath shukhi purabak  rahne lagegi.

दोस्त की पत्नी का वशीकरण

दोस्त की पत्नी का वशीकरण – अगर आप के घर में  भी कोई इस तरह का समस्या है| जिसे कि पति और पत्नी के बीच किसी बात को लेकर तनाव हो गया है और पत्नी अपने पति से अलग होइ रही है या वह अपने पति को पसन्द नहीं कर रही है और पति अपने पति से अलग नहीं होना चाहता है | तो अब आप को निराश होने की कोई बात नहीं है| आप हमारे बाबा जी से संपर्क कर के अपने पत्नी को आसानी से अपने पत्नी का वशीकरण का उअपय कर के वश में कर सकती है| जिसे की आप का वैवाहिक जीवन अलग होने से बच सकता है और आप की पत्नी पूरी तरह से आप के  वश में हो जाएगी और आप के साथ सुखी पुरबाक  रहने लगेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *